Sindhi Pakoda Divas

———+++ पकौड़ा+++———
रखु पकौड़नि सां प्यारु रे प्राणी
रखु पकौड़नि सां प्यारु…..
सिंधियत जो शान पकौड़ा,
सिंधियत जो मान पकौड़ा,
रखु पकौड़नि सां प्यारु….

मेज़बान जो शानु वधे थो,
मेहमान जो मानु वधे थो।
पटाटनि, बीहनि, बसरनि वारा
गोभी, मिर्चनि ऐं वाङण वारा,
पकौड़ा स्वादी आहिनि बेशुमारु ।
रखु पकौड़नि सां प्यारु….

तनु आहे ठहियलु बेसण जो,
मन में मिलियलु मिर्चु मसालो।
अचनि प्लेट में ठही संभिरिजी,
ॿियो हथ में हुजे हालो प्यालो।
केरु कंदो खाइण पीअण खां इंकार।
रखु पकौड़नि सां प्यारु….

साई चटणी, सना पकौड़ा,
जेतिरा खाउ ओतिरा थोड़ा ।
तरहें तरह जा आहिनि पकौड़ा,
खाई दॖिसु तूं हिकु वारु ।
रखु पकौड़नि सां प्यारु…

दॖींंहुं दॖुखियो ना शल अची वञे,
जे किस्मत ना दॖे साथु ।
हिम्मत ॿधी करे महिनत सां,
करे सघो जे पुरुषार्थु ।
प्रधान सेवक जी भी आहे सलाह,
पकौड़नि जो करे सघो था वापारु।
रखु पकौड़नि सां प्यारु रे …..

जीवनु आहे हिकिड़ो खोरो° ।।
हिनखे भञु° तूं खाई पकौड़ो।
हिकु दॖूं ॿ– ॿि दॖूं चार °
करि जीवन में सभिनी सां प्यारु।
रखु पकौड़नि सां प्यारु रे प्राणी..

सेण सॼण अचनि जे घर में,
खूब उन्हनि खे रीझायो ।
तरह तरह जा ताम ठाराऐ,
पकौड़ा ज़रूर तरायो।
जीऐं वधे पाण में सिक ऐं प्यारु ।
रखु पकौड़नि सां प्यारु……

पाणीअं में ॻोइजी, तेल में तरिजी
जीवन जो था सबकु सेखारिनि
जीत उन्हीअ जी थींदी सदाईं,
जिनि पहिंजनि खूं मञी हार।।
रखु पकौड़नि सां प्यारु रे प्राणी..
रखु पकौड़नि सां प्यारु……

खोरो°- सिंधी पहाड़ो
भञु°- हल करना
हालो° ( हाला ) मदिरा
हिक दॖूं ॿ–ॿिदॖूं चार° सिंधी अ में ॿिनि जो खोड़ो (पहाड़ो) पढ़हण जो तरीको।
विश्व सिंधी पकौड़ा दिवस जूं तव्हां सभिनी खे दिल सां वाधायूं।

घनश्याम ‘ घनिष्ठ ‘
ग्वालियर
+91-8959074500

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *